Glimpses of Lahaul-Spiti

जब चार हजार मीटर ऊंचाई पर मिला था चाय का न्योता! दुनिया में सबसे गर्मजोशी भरा निमंत्रण मुझे उस रोज़ ट्रांस हिमालय की ग्लेशियरों से लदी चोटियों के इस पार …

Read More

On the most treacherous road journey in the world

दुनिया की दुर्गमतम सड़क से मौत के दर्रे का सफर   समुद्रतल से बयालीस सौ मीटर ऊंची झील की परिक्रमा करते हुए कैसे—कैसे ख्याल मन के एक कोने से दूसरे …

Read More

Towards the soaring land and passes of Trans Himalaya – a journey to Lahaul & Spiti

 किन्नौर के परीलोक से कुंजुम—रोहतांग के खौफनाक मंज़र तक! दुनिया की सर्वश्रेष्ठ सड़क यात्राओं में शुमार है शिमला से किन्नौर—स्पीति—लाहुल होते हुए रोहतांग दर्रे के उस पार बसे मनाली तक …

Read More

The mystery behind Rohtang, the corpse strewn pass in the Himalayas

संसार के उस पार का संसार कुल्लू कभी ‘कुलूत’ था यानी सभ्यता का अंतिम पड़ाव और मान लिया गया था कि उसके आगे संसार खत्म हुआ जाता है। और वो …

Read More

Why Spitian village Langza at more than 4400m is a part of my permanent memory

काज़ा (https://en.wikipedia.org/wiki/Kaza,_Himachal_Pradesh) से 14 किलोमीटर दूर लांग्ज़ा गांव की ढलानों पर छोटे बच्चों ने मुझे घेर लिया था। उन नन्हें हाथों में शालिग्राम ठुंसे थे जिन्हें वो औने-पौने दाम में …

Read More