Ranikhet – a trip down memory lane

रानीखेत – यादों का सफर बीते महीने काठगोदाम से भीमताल, नैनीताल, भवाली होते हुए अल्मोड़ा, रानीखेत और आगे द्वाराहाट, दूनागिरी की पहाड़ियों तक लगभग  650 किलोमीटर का फासला नापते हुए …

Read More

the homecoming!

 मैं बहुत दिनों बाद इतरायी थी उस रोज़ .. क्या आपको घर के सपने आते हैं? मुझे अक्सर आते हैं, पुराने—पुराने घरों के, बहुत पुराने, नामालूम वो कबकी यादें होती …

Read More