Kashmir during Ramzan is special

कश्मीर में एक मौसम रमज़ान का भी होता है

माह-ए-रमज़ान हो और कश्मीर की याद न आए, ऐसा मुमकिन नहीं। ज़बरवान पहाड़ी पर उस दिन का सूरज अपनी आखिरी लौ समेटने में जुटा था और दूर एक कोने में नमाज़ियों की कतार उमड़ रही थी।

IMG_0743

डल पर हौले-हौले बढ़ रही हमारी किश्ती एकाएक रुक गई और हमें बस इतना सुना कि दुआ का वक़्त हुआ जाता है … और अगले पंद्रह मिनट तक हम डल पर उस छोटे से टापू पर वाकई थिर गए। देखते ही देखते हमारे आसपास दूसरे सैलानियों की भी किश्तियां आ लगीं। हर माझाी ने अपनी सवारियों को उस टापू पर उतारा, किश्ती किनारे टिकायी और उस कतार में गुम हो गया। दुआ में उठते हाथ और इबादत में झुके बदन, बुदबुदाते होंठों पर तैरते कुछ अबूझे स्वर … रमज़ान की बस यही यादें हैं मेरे पास।

IMG_1231

हमने रोज़े तो नहीं रखे लेकिन मेवों की खरीदारी ठीक उस अंदाज़ में की जैसे इफ्तारी का इंतज़ाम सारा हमारे ही​ जिम्मे हो! श्रीनगर के लाल चौक तक निकल आए थे उस रोज़ और वहीं जे एंड के एंपोरियम से शॉल की खरीदारी के बाद मेवों पर टूट पड़े।

IMG_1236

 

और फिर हज़रतबल में हाजिरी

 

IMG_1640

वो जो व्हाइट कश्मीर, कश्मीर इन स्प्रिंग की बातें करते हैं उनसे कह दो कि कश्मीर में एक मौसम रमज़ान का भी होता है

About Alka Kaushik

I am an Independent travel journalist, translator, blogger and inveterate traveller, based out of Delhi, India. I have been a food columnist for Dainik Tribune besides contributing or Dainik Bhaskar, ShubhYatra, Rail Bandhu, Jansatta, Dainik Jagran etc. My regular column on the portal The Better India - Hindi is a widely read and shared column with travel stories from around India.

View all posts by Alka Kaushik →

6 Comments on “Kashmir during Ramzan is special”

  1. Hi Alka !
    I don’t understand what your wrote, but I also had a very interesting experience in Srinagar during Ramzan. The family of my houseboat treat me as one of them and I could enjoy the time after Ramzan with them, going to the mosquee and visiting the family, and eating, eating, eating…

    1. good to know that you want to read my experiences of Ramzan in Srinagar in other language than Hindi. Just that the main idea behind this blog is to share traveling experiences in Hindi because I believe we are lacking in that. However, I try to compensate for this barrier by images for as they say – “a picture says a thousand words!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *