The Naga Hills are calling! हॉर्नबिल फेस्टिवल के बहाने नागा संस्कृति का दीदार

What – Hornbill Festival 

When – 1 to 10 Dec 2014

Where – Kisama Heritage Village

                (10 Kms from Kohima) Nagaland

अगर आप भी यही सोचते आए हैं कि पूर्वोत्तर किसी कोने में खोया—खोया, सोया—सोया सा इलाका है तो कोहिमा में 1 दिसंबर 2014  से सजने वाले हॉर्नबिल फेस्टिवल में हो आइये! नॉर्थ—ईस्ट को लेकर गलतफफमियां मिटाने का इससे अच्छा बहाना फिर मिले न मिले …!IMG_1319

Captivating cultural performance by tribal artists / Photo courtesy – Nagaland Tourism

सिर में सींग टांगे, असली वाले पंछियों के असल पंखों से सजे और पेंट से रंगे चेहरों वाले इन लोक—नर्तकों का पहनावा देखकर आपके ज़ेहन में सिर्फ एक ही बात आती है, वो यह कि सुदूर पूर्व के इस समाज को ज़माने की हवा अभी नहीं लगी है। यह जानना सुखद होता है कि नागालैंड के सभी सोलह जन—जातीय समूह आज भी अपने उत्सवों को पूरी धूमधाम से मनाते हैं, कई—कई दिनों तक उनके बहाने परंपराओं को निभाते हैं और यहां तक कि इन अवसरों पर बाहर से आए सैलानियों को भी उनके साथ जश्न की मस्ती का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करते हैं।DSC_0302

Enthralling performance by tribals / Photo courtesy – Nagaland Tourism

राज्य के पर्यटन विभाग ने उत्सवों की इस परंपरा में एक और कड़ी को जोड़ते हुए साल 2000 से एक नए फेस्टिवल का शुभारंभ किया। राज्य पक्षी हॉर्नबिल के नाम पर इसे हॉर्नबिल फेस्टिवल नाम दिया गया। शुरू में एक हफ्ते तक हॉर्नबिल फेस्टिवल चला करता था लेकिन बीते वर्षों में इसकी लोकप्रियता के चलते नए-नए आयोजन इससे जुड़ते रहे और पिछले कुछेक वर्षों से यह दस दिन तक चलता है।IMG_4774

Tribal artists performing at theHornbill festival/ Photo courtesy – Nagaland Tourism

राज्य भर के ​कबीलाई समाजों के लोगों की इसमें भागीदारी होती है और पूरे दस दिनों तक नागा संस्कृति का इंद्रधनुष जैसे राजधानी कोहिमा के आसमान में छाया रहता है। शायद यही वजह है कि हॉर्नबिल फेस्टिवल को ‘फेस्टिवल ऑफ फेस्टिवल्स’ भी कहा जाता है।DSC_0210

Kisama Heritage Village/ Photo courtesy – Nagaland Tourism

किसामा हेरिटेज विलेज में सजता है हॉर्नबिल फेस्टिवल का मंच।

हॉर्नबिल इंटरनेशल म्युज़िक फेस्टिवल 2014 पहले ही दिन यानी 1 दिसंबर की शाम हॉकी ग्राउंड, इंदिरा गांधी स्टेडियम, कोहिमा में शुरू हो रहा है और देर रात तक चलेगा।

इसके अलावा, कोरियाई फूड फेस्टिवल, रंगमंच उत्सव, विश्व सिनेमा, नाइट कार्निवाल की धूम रहेगी और द्वितीय विश्वयुद्ध के साथ नागालैंड के ऐतिहासिक संबंधों की स्मृति में एक पीस रैली दीमापुर से कोहिमा तक आयोजित होगी।

और अगर आपको लगता है कि नागा समाज सिर्फ नृत्य—संगीत या खान—पान से तक ही सीमित है तो यकीनन आप मुगालते हैं। इसे दूर करना भी जरूरी है और उसके लिए ही इस बार कोहिमा चले आइये। यहां पुराने डीसी बंगले में इस बार हॉर्नबिल फेस्टिवल के बहाने साहित्य की महफिल सजेगी। रंगमंच के कलाकार भी हॉर्नबिल के मंच पर जुटेंगे, कुछ साहित्यिक चर्चाएं होंगी, फैशन शो होंगे, और फिर चौथे दिन इंटरनेशनल रॉक कम्पीटिशन के लिए आॅडिशन भी! पांचवें दिन सवेरे 8 बजे हॉर्नबिल मोटर रैली को दीमापुर में बैम्बू मिशन से झंडी दिखाकर रवाना किया जाएगा जो किसामा हेरिटेज विलेज पर संपन्न होगी। और जैसे इतना ही काफी नहीं है। आयोजकों ने एडवेंचर का फ्लेवर भी दिलाने का पूरा इंतज़ाम किया है। नागालैंड एडवेंचर क्लब की ओर से 5-10 दिसंबर तक ग्रेट हॉर्नबिल एडवेंचर ट्रेल की घोषणा की गई है, इसका हिस्सा बनिए और सूदूर पूर्व के इस राज्य के अंदरूणी हिस्सों तक जाने का अनुभव बटोर लीजिए।IMG_5102

I just fell in love with this tribal hut at Kisama Heritage Village!

 नागालैंड को करीब से जानने—समझने का इससे अच्छा मौका दूसरा नहीं हो सकता, यकीनन!

For more about Nagaland and Hornbill Festival, please click the link -(http://tourismnagaland.co.in/)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *